Jivika Kya Hai- जीविका परियोजना क्या है?- जाने जीविका के लाभ, आसान किस्तों पर मिलेगा लोन

Jivika Kya Hai: आज कल हर जगह एक जीविका योजना का नाम काफी सुनने को मिलता है। यह योजना बिहार सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं में से एक है। बिहार सरकार द्वारा शुरू किए गए यह बिहार ग्रामीण आजीविका परियोजना विश्व बैंक की सहायता से चलाई जा रही है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य के ग्रामीण गरीबों, खासकर महिलाओं का सशक्तीकरण करना है।

आज के इस आर्टिकल में हम आप सभी को Jivika Kya Hai, जीविका का काम और इसके लाभ के बारे में सभी जानकारी को बताने वाले है। यदि आप भी इस योजना के लाभ प्राप्त करना चाहते है तो आपके लिए आज के यह लेख बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसलिए आप इसे अंत तक ध्यान से पढ़ें।

Jivika Kya Hai: Overview

Name of Article Jivika Kya Hai
Article Type Latest Update
Name of Scheme Jeevika Scheme
Official Website brlps.in

Jeevika Kya Hota Hai?

आज के इस आर्टिकल में हम आप सभी पाठकों को बहुत- बहुत हार्दिक स्वागत करते है। आज हम आप सभी को इस लेख के माध्यम से Jeevika Kya Hota Hai के बारे में सभी जानकारी को सही सही बताएंगे। आप सभी को बता दे की जीविका परियोजना, बिहार में महिला सशक्तिकरण और आजीविका के लिए एक महत्वपूर्ण पहल है। योजना ने महिलाओं के जीवन स्तर को ऊपर उठाने और ग्रामीण विकास में योगदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

Read Also…

यदि आप भी जीविका योजना क्या है? इसके लाभ क्या है और इससे जुड़े सभी जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो आप इस लेख को अंत तक पढ़ें। क्योंकि इस लेख में हम आप सभी को जीविका योजना से संबधित सभी जानकारी को बताएंगे। इसलिए आप इसे अंत तक ध्यान से पढ़ें।

Jivika Kya Hai

जीविका परियोजना क्या है?

जीविका, जिसे बिहार ग्रामीण आजीविका परियोजना के नाम से भी जाना जाता है, बिहार सरकार की एक महत्वाकांक्षी योजना है जिसका उद्देश्य राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब महिलाओं, विशेष रूप से हाशिए पर रहने वाली महिलाओं, को सामाजिक और आर्थिक रूप से मजबूत बनाना है।

जीविका समूह क्या है?

जीविका समूह, जिन्हें स्व-सहायता समूह (SHGs) के नाम से भी जाना जाता है, जीविका परियोजना का मुख्य घटक हैं। इन समूहों का गठन ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब महिलाओं, विशेष रूप से हाशिए पर रहने वाली महिलाओं को सामाजिक और आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिए किया जाता है।

जीविका समूहों की विशेषताएं:

  • प्रत्येक समूह में 10-15 महिलाएं शामिल होती हैं।
  • सदस्य नियमित रूप से छोटी-छोटी बचत जमा करते हैं, जो समूह के लिए पूंजी का आधार बनती है।
  • समूह के सभी सदस्य मिलकर महत्वपूर्ण निर्णय लेते हैं।
  • सदस्य एक दूसरे को प्रोत्साहन और समर्थन देते हैं।
  • समूह सदस्य विभिन्न आर्थिक गतिविधियों, जैसे कृषि, हस्तशिल्प, पशुपालन, आदि में भाग लेते हैं।
  • समूह सदस्यों को उनके अधिकारों, स्वास्थ्य, शिक्षा, और सामाजिक मुद्दों के बारे में जागरूक किया जाता है।

जीविका की शुरुआत कब हुई?

जीविका परियोजना की शुरुआत 2 अक्टूबर 2006 को बिहार सरकार ने विश्व बैंक की सहायता से की थी। यह परियोजना, बिहार ग्रामीण आजीविका परियोजना के नाम से भी जानी जाती है, जीविका का उद्देश्य राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब महिलाओं, खासकर हाशिए पर रहने वाली महिलाओं को सामाजिक और आर्थिक रूप से बेहतर बनाना था।

जीविका से क्या लाभ है?

जीविका योजना महिलाओं के सशक्तिकरण, गरीबी उन्मूलन, और ग्रामीण विकास के लिए एक महत्वपूर्ण पहल है। इस योजना ने बिहार में महिलाओं के जीवन स्तर को ऊपर उठाने और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इस महत्वाकांक्षी योजना के लाभ निम्न है-

महिलाओं का आर्थिक सशक्तिकरण

  • जीविका समूहों से जुड़कर महिलाएं विभिन्न आर्थिक गतिविधियों में भाग लेती हैं, जिससे उनकी आय में वृद्धि होती है।
  • महिलाएं स्वयं रोजगार प्राप्त करती हैं और दूसरों के लिए भी रोजगार के अवसर पैदा करती हैं।
  •  महिलाएं आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनती हैं और अपने परिवारों की बेहतर देखभाल कर पाती हैं।

सामाजिक सशक्तिकरण

  • जीविका समूह महिलाओं को एक मंच प्रदान करते हैं जिससे वे एक दूसरे से जुड़ सकती हैं, सामाजिक मेलजोल बढ़ा सकती हैं, और सामाजिक मुद्दों पर चर्चा कर सकती हैं।
  • महिलाएं समूहों में मिलकर निर्णय लेना सीखती हैं, जिससे उनका आत्मविश्वास बढ़ता है।
  • महिलाएं समूहों में नेतृत्व की भूमिकाएं निभाकर अपनी नेतृत्व क्षमता का विकास करती हैं।
  •  महिलाओं को उनके अधिकारों, स्वास्थ्य, शिक्षा, और सामाजिक मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ती है।

गरीबी उन्मूलन

  • महिलाओं की आय में वृद्धि से परिवारों की आय में वृद्धि होती है, जिससे गरीबी कम होती है।
  • महिलाएं आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनकर गरीबी से बाहर निकलने में सक्षम होती हैं।
  • महिलाओं के सशक्तिकरण से सामाजिक विकास को बढ़ावा मिलता है।

ग्रामीण विकास

  • महिलाओं के उद्यमों से ग्रामीण अर्थव्यवस्था में गतिविधियां बढ़ती हैं।
  • महिलाओं के रोजगार से ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अवसरों में वृद्धि होती है।
  • जीविका समूहों द्वारा प्राप्त ऋण का उपयोग ग्रामीण बुनियादी ढांचे, जैसे सड़कों, स्कूलों, और स्वास्थ्य केंद्रों के विकास में किया जाता है।

जीविका क्या है सरकारी या प्राइवेट- Jeevika Is Government Or Private?

जीविका, जिसे बिहार ग्रामीण आजीविका परियोजना के नाम से भी जाना जाता है, बिहार सरकार की एक सरकारी पहल है। यह योजना विश्व बैंक की सहायता से चलाई जा रही है। यह योजना ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब महिलाओं, खासकर हाशिए पर रहने वाली महिलाओं को सामाजिक और आर्थिक रूप से मजबूत बनाने मे बहुत ही मदद कर रही है।

जीविका का काम क्या होता है?

इस योजना ने लाखों महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने और अपनी आजीविका चलाने में मदद की है। जीविका ने ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने और गरीबी को कम करने में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है। जीविका के मुख्य कार्य निम्नलिखित हैं-

1. स्व-सहायता समूहों (SHGs) का गठन

  • 10-15 महिलाओं को शामिल करते हुए SHGs का गठन किया जाता है।
  • इन समूहों का उद्देश्य महिलाओं को एकजुट करना, उन्हें नियमित रूप से बचत करने के लिए प्रोत्साहित करना, और उन्हें उद्यमिता संबंधी गतिविधियों में भाग लेने के लिए प्रेरित करना है।
  • SHGs महिलाओं को सामाजिक समर्थन और नेतृत्व के अवसर भी प्रदान करते हैं।

2. कौशल विकास

  • जीविका योजना के तहत महिलाओं को विभिन्न कौशल, जैसे कृषि, हस्तशिल्प, पशुपालन, आदि प्रदान किए जाते हैं।
  • ये कौशल महिलाओं को रोजगार प्राप्त करने और अपनी आजीविका चलाने में मदद करते हैं।
  • महिलाओं को प्रशिक्षण देने के लिए विभिन्न प्रशिक्षण संस्थानों और NGOs के साथ भागीदारी की जाती है।

3. वित्तीय सहायता

  • SHGs को बैंक ऋण और अन्य वित्तीय सहायता प्राप्त करने में मदद की जाती है।
  • महिलाएं ऋण का उपयोग अपने उद्यमों को स्थापित करने और चलाने के लिए कर सकती हैं।
  • वित्तीय साक्षरता कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं ताकि महिलाएं ऋण का प्रबंधन करना सीख सकें।

4. आजीविका सहायता

  • जीविका योजना महिलाओं को विभिन्न आजीविका गतिविधियों, जैसे कृषि, हस्तशिल्प, पशुपालन, आदि में सहायता प्रदान करती है।
  • महिलाओं को बाजार तक पहुंच, उपकरण, और अन्य संसाधन प्राप्त करने में मदद की जाती है।
  • महिलाओं को विभिन्न सरकारी योजनाओं से भी जोड़ा जाता है जो उन्हें अपनी आजीविका को मजबूत करने में मदद कर सकती हैं।

5. सामाजिक जागरूकता

  • जीविका योजना महिलाओं को उनके अधिकारों, स्वास्थ्य, शिक्षा, और सामाजिक मुद्दों के बारे में जागरूक करती है।
  • महिलाओं को सामाजिक कुरीतियों, जैसे बाल विवाह, दहेज प्रथा, आदि के खिलाफ आवाज उठाने के लिए भी प्रोत्साहित किया जाता है।
  • जागरूकता कार्यक्रमों और शिविरों का आयोजन किया जाता है ताकि महिलाओं को महत्वपूर्ण मुद्दों के बारे में शिक्षित किया जा सके।

जीविका का सैलरी कितना है?

जीविका योजना में वेतन/सैलरी का कोई निश्चित ढांचा नहीं है। साल 2021-22 की जीविका वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, जीविका योजना से जुड़ी महिलाओं की औसत मासिक आय ₹5,000 थी। हालांकि, कुछ महिलाएं ₹10,000 या ₹15,000 प्रति माह भी कमा रही थीं, जबकि कुछ महिलाओं की आय ₹2,000 या ₹3,000 प्रति माह से भी कम थी।

जीविका समूह लोन कैसे लें?

यदि आप जीविका समूह लोन प्राप्त करना चाहते है तो आप यहां नीचे जीविका समूह ऋण प्राप्त करने के लिए चरण-दर-चरण बताए गए स्टेप्स को फॉलो करके Jeevika Yojana Loan Apply कर सकते है-

1. समूह का गठन

  • सबसे पहले, 10-15 महिलाओं का एक स्व-सहायता समूह (SHG) बनाना होगा।
  • समूह के सभी सदस्यों को नियमित रूप से बचत करने और समूह के नियमों का पालन करने के लिए सहमत होना चाहिए।
  • समूह को एक नाम और बैंक खाता चुनना होगा।

2. जीविका दीदी से संपर्क करें

  • अपने क्षेत्र की जीविका दीदी से संपर्क करें। जीविका दीदीएं जीविका परियोजना द्वारा प्रशिक्षित महिलाएं हैं जो SHGs को ऋण प्राप्त करने में सहायता करती हैं।
  • जीविका दीदी समूह को ऋण आवेदन प्रक्रिया और आवश्यक दस्तावेजों के बारे में मार्गदर्शन प्रदान करेगी।

3. ऋण आवेदन जमा करें

  • जीविका दीदी से प्राप्त ऋण आवेदन पत्र को भरें।
  • आवश्यक दस्तावेजों, जैसे समूह के गठन का प्रमाण पत्र, बैंक खाता विवरण, सदस्यों की पहचान प्रमाण, आदि संलग्न करें।
  • भरे हुए आवेदन पत्र और दस्तावेजों को जीविका दीदी को जमा करें।

4. बैंक द्वारा मूल्यांकन

  • जीविका दीदी ऋण आवेदन पत्र और दस्तावेजों को बैंक को भेजेगी।
  • बैंक समूह के ऋण चुकाने की क्षमता का मूल्यांकन करेगा।
  • बैंक ऋण आवेदन को स्वीकार या अस्वीकार कर सकता है।

5. ऋण स्वीकृति और वितरण

  • यदि ऋण आवेदन स्वीकृत हो जाता है, तो बैंक समूह को ऋण राशि प्रदान करेगा।
  • ऋण राशि समूह के बैंक खाते में जमा की जाएगी।

जीविका बहाली 2024

बिहार सरकार की महत्वाकांक्षी जीविका योजना, 2024 में बंपर भर्ती आयोजित करने वाली है। जिसमे विभिन्न पदों पर भर्ती की जाएगी, जैसे ग्राम विकास सहायक (GVS), जीविका दीदी, प्रखंड परियोजना प्रबंधक (BPM), और जिला परियोजना प्रबंधक (DPM)।

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हम आप सभी को Jivika Kya Hai के बारे में सभी जानकारी को सही सही और विस्तार से आप सभी अभ्यार्थी के साथ साझा किए है। यदि आपको आज के यह लेख पसंद आया हो तो आप इसे अपने परिजनों और दोस्तों के साथ में शेयर जरूर करें।

ताकि वह भी इस योजना के बारे में जान सके, और इसका लाभ प्राप्त कर सके। इस लेख से संबंधित किसी भी प्रकार के प्रश्न के लिए आप हमें नीचे के कॉमेंट सेक्शन में अपना कॉमेंट करके पूछ सकते है।

Join Telegram Channel

Leave a comment